चरणजीत सिंह चन्नी बने पंजाब के CM, दो उपमुख्यमंत्रियों संग ली पद और गोपनीयता की शपथ

पंजाब के नवनियुक्त मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने सोमवार को राजभवन में मुख्यमंत्री पद और गोपनीयता की शपथ ली। चरणजीत सिंह चन्नी के साथ-साथ दो उप मुख्यमंत्रियों ने भी शपथ ली। शपथ ग्रहण समारोह में कांग्रेस के नेता और पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी भी शामिल हुए। पंजाब के नए मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के साथ-साथ पंजाब सरकार में सुखजिंदर रंधावा और ओपी सोनी उप मुख्यमंत्री होंगे।

शपथ ग्रहण समारोह के ठीक पहले बड़े उलटफेर के साथ ब्रह्म महिंद्रा पंजाब के उप मुख्यमंत्री के रेस से बाहर हो गए तथा उनकी जगह ओपी सोनी को उपमुख्यमंत्री बनाया गया। पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के इस्तीफा देने के बाद ब्रह्म महिंद्रा का नाम उप मुख्यमंत्री के लिए रेस में था।

नवनियुक्त मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी दलित सिख समुदाय से ताल्लुक रखते हैं। मुख्यमंत्री पद के शपथ ग्रहण के पहले से ही पंजाब कांग्रेस में मतभेद उभर कर सामने आ गए हैं। सुनील जाखड़ ने हरीश रावत के बयान पर नाराजगी भी जताई थी। उन्होंने कहा था कि हरीश रावत का बयान मुख्यमंत्री को कम आंकने वाला है। आपको बता दें कि हरीश रावत ने कहा था कि नवजोत सिंह सिद्धू के नेतृत्व में अगले साल होने वाला विधानसभा का चुनाव लड़ा जाएगा।

चरणजीत सिंह चन्नी पंजाब के पहले दलित मुख्यमंत्री होंगे। कांग्रेसी नेताओं ने दलित मुख्यमंत्री बनाने के फैसले पर शीर्ष नेतृत्व की जमकर तारीफ की है। एक और जहां नवजोत सिंह सिद्धू ने इसे ऐतिहासिक बताया है वही रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट करके लिखा है कि कांग्रेस ने एक दलित साथी चरणजीत सिंह चन्नी को पंजाब का मुख्यमंत्री बना कर नया इतिहास रच दिया है। उन्होंने कहा कि तारीख गवाह है कि आज का यह निर्णय पंजाब और देश के हर वंचित और शोषित साथी के लिए एक उम्मीद की नई किरण बनेगा और नए दरवाजा खोलेगा।